Favourite Flower of Maa Shailputri (माँ शैलपुत्री की पसंद का फ़ूल / पुष्प ) – Jasmine (चमेली)

Shailputri Mantra (शैलपुत्री मंत्र)

ॐ देवी शैलपुत्र्यै नमः॥
Om Devi Shailaputryai Namah॥

Shailputri Prarthana (शैलपुत्री प्रार्थना)

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥
Vande Vanchhitalabhaya Chandrardhakritashekharam।
Vrisharudham Shuladharam Shailaputrim Yashasvinim॥

Shailputri Stuti (शैलपुत्री स्तुति)

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ शैलपुत्री रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
Ya Devi Sarvabhuteshu Maa Shailaputri Rupena Samsthita।
Namastasyai Namastasyai Namastasyai Namo Namah॥

Dhyana

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥
पूणेन्दु निभाम् गौरी मूलाधार स्थिताम् प्रथम दुर्गा त्रिनेत्राम्।
पटाम्बर परिधानां रत्नाकिरीटा नामालंकार भूषिता॥
प्रफुल्ल वन्दना पल्लवाधरां कान्त कपोलाम् तुगम् कुचाम्।
कमनीयां लावण्यां स्नेमुखी क्षीणमध्यां नितम्बनीम्॥
Vande Vanchhitalabhaya Chandrardhakritashekharam।
Vrisharudham Shuladharam Shailaputrim Yashasvinim॥
Punendu Nibham Gauri Muladhara Sthitam Prathama Durga Trinetram।
Patambara Paridhanam Ratnakirita Namalankara Bhushita॥
Praphulla Vandana Pallavadharam Kanta Kapolam Tugam Kucham।
Kamaniyam Lavanyam Snemukhi Kshinamadhyam Nitambanim॥

Stotra

प्रथम दुर्गा त्वंहि भवसागरः तारणीम्।
धन ऐश्वर्य दायिनी शैलपुत्री प्रणमाम्यहम्॥
त्रिलोजननी त्वंहि परमानन्द प्रदीयमान्।
सौभाग्यरोग्य दायिनी शैलपुत्री प्रणमाम्यहम्॥
चराचरेश्वरी त्वंहि महामोह विनाशिनीं।
मुक्ति भुक्ति दायिनीं शैलपुत्री प्रणमाम्यहम्॥
Prathama Durga Tvamhi Bhavasagarah Taranim।
Dhana Aishwarya Dayini Shailaputri Pranamamyaham॥
Trilojanani Tvamhi Paramananda Pradiyaman।
Saubhagyarogya Dayini Shailaputri Pranamamyaham॥
Charachareshwari Tvamhi Mahamoha Vinashinim।
Mukti Bhukti Dayinim Shailaputri Pranamamyaham॥

Kavacha

ॐकारः में शिरः पातु मूलाधार निवासिनी।
हींकारः पातु ललाटे बीजरूपा महेश्वरी॥
श्रींकार पातु वदने लावण्या महेश्वरी।
हुंकार पातु हृदयम् तारिणी शक्ति स्वघृत।
फट्कार पातु सर्वाङ्गे सर्व सिद्धि फलप्रदा॥
Omkarah Mein Shirah Patu Muladhara Nivasini।
Himkarah Patu Lalate Bijarupa Maheshwari॥
Shrimkara Patu Vadane Lavanya Maheshwari।
Humkara Patu Hridayam Tarini Shakti Swaghrita।
Phatkara Patu Sarvange Sarva Siddhi Phalaprada॥

राशि के अनुसार माँ शैलपुत्री की पूजा / आराधना / उपासना के मंत्र

मेष

पूजन का विशेष समय प्रातः 7 बजे से प्रातः 9 बजे तक
पूर्व की ओर मुख कर शैलपुत्री देवी का पूजन करें पीले रंग के वस्त्र धारण करें
ऊँ शं शैलपुत्रये फट् मंत्र की 11 माला का जाप करें

वृषभ

साधना का विशेष समय प्रातः 5 बजे से प्रातः 7 बजे तक
पश्चिम दिशा की ओर मुख कर बैठें
सफेद रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें

ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् व ऊँ ह्रीं बग्लामुखी नमः मंत्र का जाप करें

मिथुन

पूजन का विशेष समय प्रातः 9 बजे से 12 बजे तक
पूर्व दिशा की ओर मुख कर बैठें

हरे रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें
ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् मंत्र की 11 माला का जाप करें व 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें

कर्क

साधना का विशेष समय दोपहर 2 बजे से दोपहर 4 बजे तक
दक्षिण की ओर मुख कर शैलपुत्री देवी का पूजन करें
पीले रंग के वस्त्र धारण करें

ऊँ शं शैलपुत्रये फट् मंत्र की 3 माला का जाप करें व 11 बार दुर्गा चालीसा का पाठ करें

सिंह

साधना का विशेष समय प्रातः 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक
ईशान कोण(पूर्व-उत्तर) की ओर मुख कर बैठें
लाल रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें

ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् मंत्र की 5 माला का जाप करें

कन्या

साधना का विशेष समय रात्रि 10 बजे से रात्रि 12 बजे तक
आग्नेय कोण(पूर्व-दक्षिण) की ओर मुख कर बैठें
लाल रंग के वस्त्र धारण करें

ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् मंत्र की 11 माला का जाप करें, 5 बार भैरव चालीसा का पाठ करें

वृश्चिक

पूजन का विशेष समय दोपहर 3 बजे से सायं 6 बजे तक
उत्तर दिशा की ओर मुख कर बैठें
गुलाबी रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें

ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् मंत्र की 7 माला का जाप करें, ऊँ श्री गणेशाय नमः मंत्र की 5 माला का जाप करें

धनु

पूजन का विशेष समय प्रातः 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक

पूर्व की ओर मुख कर बैठें
लाल रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें

ऊं शं शैलपुत्रयै फट् व ऊं क्लीं कालिका भ्यां नमः मंत्र का जाप करें

मकर

पूजन का विशेष समय रात्रि 1 बजे से रात्रि 3 बजे तक

पश्चिम दिशा की ओर मुख कर बैठें

लाल रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें

ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् मंत्र की 5 माला का जाप करें, 13 बार भैरव चालीसा का पाठ करें

कुंभ

पूजन का विशेष समय रात्रि 12 बजे से रात्रि 3 बजे तक

दक्षिण दिशा की ओर मुख कर बैठें

नीले रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें
ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् व ऊँ पदमावत्यै नमः मंत्र की 11 माला का जाप करें

मीन

पूजन का विशेष समय सायं 7 बजे से प्रातः 9 बजे तक

पूर्व दिशा की ओर मुख कर बैठें
पीले व सफेद रंग के वस्त्र धारण कर पूजन करें

ऊँ शं शैलपुत्रयै फट् व ऊँ दुं दुर्गाय नमः मंत्र का जाप करें

Akhilesh Sharma

Akhilesh Sharma is a well known digital marketeer and SEO consultant. He is also having a vast experience of architecting and programming for eCommerce applications and payment gateway integrations.

Leave a Reply